बाल -श्रम उन्मूलन हो धर्म- प्रीति शर्मा "असीम"



बाल श्रम

प्रीति शर्मा "असीम"

मेहनत कर करता गुजारा।
जीवन का कर्म एक सहारा।
किस्मत ने किया जिसे वरण ,
बाल -श्रम की व्यथा मर्म -मर्म ।

हर कोई है दुत्कार जाता ।
कोई प्यार से कभी पास बुलाता।
छोटे हाथों के बड़े कर्म ,
बाल -श्रम की व्यथा शर्म -शर्म ।

जीवन के संघर्ष से लड़ता।
अपने फर्जो को पूरा करता ।
बचपन खेल के बस रहे भरम।
बाल -श्रम उन्मूलन हो धर्म -धर्म।


प्रीति शर्मा "असीम"
नालागढ़ हिमाचल प्रदेश 

Post a Comment

0 Comments

 विश्व के लिए खतरा है चीन