ग़ज़ल ( माँ ) - विनोद निराश





ग़ज़ल ( माँ )


विनोद निराश


है कदमो में जन्नत माँ के, करीब आ कर  तो देखो ,
कभी ये हँसीं ख़याल जिहन, में ला कर तो देखो।

बा-खुदा उसे कभी दु:खी न, करना तुम मेरे अज़ीज़ों,
यक़ीनन उस पाकीज़ा को, दिल में बसा कर तो देखो।

ता-उम्र अहसान तले दब जाएगा , उसके ये वक़्त भी ,
दुनिया का कोई सख्श, फ़र्ज़-ए-माँ अदा कर तो देखो।

दरख्त से गर शाख जुदा हो जाए, कभी जाने-अन्जाने,
उस शाख-ए-दरख्त पे कोई, फल ऊगा कर तो देखो।

राह-ए-ज़िंदगी में सब कुछ , हांसिल हो सकता है मगर ,
अपनी ज़िंदगी में खोई हुई माँ, फिर पा कर तो देखो।

खो के माँ को अपनी ये , अहसास हुआ मुझे निराश ,
मेरी ज़िंदगी का वो बचपन, कोई ला कर  तो देखो।


विनोद निराश ,ए - 114 , नेहरू कॉलोनी ,
देहरादून , फोन नंबर = 09719282989

Post a Comment

0 Comments

लद्दाख में बढ़ती चीन की सेनाएं : हर छलछंद और जयचंद पर नजर रख आगे बढ़ने की आवश्यकता है