बच्चो की भोली बाते



बच्चो व दादी में वार्तालाप

आर के रस्तोगी

बच्चे बोले दादी से,
दादा बाहर क्यो नहीं जाते
हमे घुमाने क्यो नहीं जाते ।
दादी बोली,बाहर कोरो ना बैठा है
दरवाजे पर ताला लगाए  बैठा है
इसलिए दादा बाहर नहीं जाते।।

बच्चे फिर दादी से बोले,
कोरोना क्या होता है,
उससे डर क्यो लगता है,
दादी बोली,
कोरोना एक महामारी है
जिससे बचना बड़ा भारी हैं

बच्चे फिर दादी से बोले,
अगर कोरोना  भारी है
उसे मिलकर हम उठाएंगे
अगर वह महामारी है तो
डॉक्टर को हम बुलाएंगे
उसको इंजेक्शन लगवाएंगे

दादी बोली बच्चो की सुन भोली बाते
बच्चो को कैसे समझाए ?
भोले है ये कैसे इन्हे समझाए
सोचे सभी उपाय दादी ने
पर कोई अक्ल में न आए।
दादा झट से बोले बच्चो से
कोरोना का कोई इंजेक्शन नहीं बना है
कैसे डॉक्टर उसे लगाए
जब इंजेक्शन बन जाएगा इसका
तभी तुम्हे घुमाने ले जाए।।

आर के रस्तोगी
गुरुग्राम

Post a Comment

0 Comments

लद्दाख में बढ़ती चीन की सेनाएं : हर छलछंद और जयचंद पर नजर रख आगे बढ़ने की आवश्यकता है