आत्‍मनिर्भर के मायने गलत न निकलें . . .



आत्‍मनिर्भर के मायने गलत न निकलें . . .

लिमटी खरे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा आत्म निर्भर बनने की बात पर जोर दिया गया है। लोग आत्म निर्भरता को अपने अपने तरीके से परिभाषित करते दिख रहे हैं। आत्म निर्भरता की बातों में लोग यह भी कहते दिख रहे हैं कि विदेशी फोन पर विदेशी सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर लोग आत्मनिर्भरता का बखान कर रहे हैं।


आत्मनिर्भर का मतलब यह नहीँ है की आई फोन की जगह लावा का फोन इस्तेमाल करना शुरु कर देना है। इसका मतलब है आई फोन जैसे फोन को निर्माण करने की क्षमता विकसित करनी है। आत्मनिर्भर का मतलब यह नहीं है की तुरन्त बीएमडब्लू जैसी मंहगी कार को तजकर मारुती का प्रयोग करना आरंभ कर देना चाहिए। इसका मतलब है बीएमडब्लू की क्वालिटी की गाङी हमारे देश के इंजिनीयर खुद विकसित कर सकें।


आत्मनिर्भर का मतलब यह नहीं है कि रॉडो की घङी फेककर टाईटन को अपना लेना है। इसका मतलब है खुद रॉडो के समानान्तर घङी को बनाने की क्षमता विकसित करना है। आत्मनिर्भर का मतलब यह नहीं है की देशी और विदेशी कंपनियों की लिस्ट बताकर जबरदस्ती देशी वस्तुएं खरीदना है। इसका मतलब ऐसा ब्रांड खङा कर देना है की लोग स्वयं उसे अपने पसंद से खरीदना शुरु कर दें।


आत्मनिर्भर का मतलब यह नहीं है कि हम चीन के सामान का आयात बन्द कर दें। इसका मतलब यह है की हमें खुद ही इस तरह के तंत्र को विकसित करना होगा कि हमारा खुद का माल इतना सस्ता और अच्छा हो की चीन के माल को छोङकर लोग स्वयं ही उसे खरीद लें।


आत्मनिर्भर का मतलब यह नहीं है की आप दुनिया भर के सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल बन्द कर दें। इसका मतलब यह है की आप खुद इतना अच्छा सॉफ्टवेयर विकसित करें की दुनिया भर के लोग अपनी स्वेच्छा से उसका चयन करने को मजबूर हो जांय।


आत्मनिर्भर का मतलब यह नहीं की आप भीख मांगने वालों की तरह अपने खाते में रुपये लेने का आग्रह करें। इसका मतलब यह है की आप अपना उद्योग सरकार की मदद से लगाएं और धीरे-धीरे अपने पैरो पर खङे होते हुए सरकार का पैसा वापस कर दें।


आत्मनिर्भरता को अपने पूर्वाग्रह पर तौलना बन्द करिए। नये सिरे से सोचना शुरु करिए। आत्मनिर्भरता का मतलब स्वदेशी खरीददारी भी नहीं है। इसका मतलब है देश और दुनिया को जिन वस्तुओं की, जिस गुणवत्ता अर्थात क्वालिटी की आवश्यकता है, उन उन वस्तुओं को उन उन क्वालिटी का देश में बनाने की क्षमता विकसित करनी है।


आत्मनिर्भरता का मतलब देश और दुनिया में चिरौरी कर गिड़गिड़ा कर अपना माल बेचना नहीं है। इसका मतलब है कि अपनी क्वालिटी और ब्रांडिंग इस स्तर की करनी है की लोग इसकी ओर आकर्षित हों तथा अपनी पसंद अर्थात बाई च्वाईस उसे खरीदें। आत्मनिर्भरता का मजाक उङाना स्वयं अपने वजूद का मजाक उङाना है। देखा जाए तो आत्मनिर्भर होना हर व्यक्ति, समाज और राष्ट्र का स्वप्न होना ही चाहिए।


आप अपने घरों में रहें, घरों से बाहर न निकलें, सोशल डिस्टेंसिंग अर्थात सामाजिक दूरी को बरकरार रखें, शासन, प्रशासन के द्वारा दिए गए दिशा निर्देशों का कड़ाई से पालन करते हुए घर पर ही रहें।



लिमटी खरे
(लेखक समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के संपादक हैं.)

Post a Comment

0 Comments

वर्तमान दौर में संयुक्त राष्ट्र संघ की प्रासंगिकता