Header Ads Widget

साहित्य के संकट



साहित्य के संकट


आलोक कौशिक


संकट साहित्य पर
है बड़ा ही घनघोर
धूर्त बना प्रकाशक
लेखक बना है चोर

भूखे हिंदी के सेवक
रचनाएं हैं प्यासी
जब से बनी है हिंदी
धनवानों की दासी

नकल चतुराई से
कर रहा कलमकार
हतप्रभ और मौन
है सच्चा सृजनकार

प्रकाशन होता पैसों से
मिलता छद्म सम्मान
लेखक ही होते पाठक
करते मिथ्याभिमान


आलोक कौशिक की कविता 'साहित्य के संकट' का नेपाली भाषा में अनुवाद:-

साहित्यमा संकट

साहित्यमा आएको छ आज
एउटा ठुलो संकट घनघोर ।
प्रकाशक बनेको छ धूर्त
लेखक बनेका छन्  चोर।।

भोकै छन् 'नेपाली 'का सेवक
रचनाहरूमा छ अतृप्त प्यास ।
जबदेखि बन्यो यहाँ 'नेपाली'
धनाढ्यहरूको आज्ञाकारी दास।।

नकल अति चतुराईले गर्छन
यी भनाउॅदा कलमकार 
हतप्रभ र मौन छन् यहाँ
नेपालीका साँचा सृजनकार।।

प्रकाशन हुन्छ आफ्नै पैसाले
पाइन्छ पनि छद्म सम्मान ।
लेखक नै हुन्छन् पाठक पनि
तर गर्छन् मिथ्या अभिमान।।
*********


अनुवादक:- इन्द्र गिरी
सिलीगुडी



संक्षिप्त परिचय:-

मूल रचनाकार:- आलोक कौशिक
शिक्षा- स्नातकोत्तर (अंग्रेजी साहित्य)
पेशा- पत्रकारिता एवं स्वतंत्र लेखन
साहित्यिक कृतियां- प्रमुख राष्ट्रीय समाचारपत्रों एवं साहित्यिक पत्रिकाओं में दर्जनों रचनाएं प्रकाशित
पता:- मनीषा मैन्शन, जिला- बेगूसराय, राज्य- बिहार, 851101,
अणुडाक- devraajkaushik1989@gmail.com
चलभाष:- 8292043472

Post a Comment

0 Comments