इंसानियत (कविता ) - प्रीति शर्मा "असीम"



इंसानियत 


✍️ प्रीति शर्मा "असीम"

इंसानियत को यूं ना शर्मशार कीजिए ।
जिंदगी मौत से जूझ रही है।

आपसी नफरतों में ,ना इसे शुमार कीजिए।
इंसानियत को यूं ना शर्मसार कीजिए।

कोई धर्म मारता नहीं है जिंदगीयों को ,
ना धर्म के नाम पर यह व्यापार कीजिए।

जिंदगी नहीं दे सकते ,जो तुम किसी इंसान को।
अपने तंग दिमागों की सोच से,कुछ तो सवाल कीजिए।

क्यों बंट गए लोग अलग-अलग जमातों में जमात बनके ।
अपनी इंसानियत का कुछ तो एहसास कीजिए।


✍️ प्रीति शर्मा "असीम"
नालागढ़ हिमाचल प्रदेश

Post a Comment

0 Comments

कुछ तो हो