कोरोना का असर - आर के रस्तोगी





कोरोना का असर

आर के रस्तोगी

सारे शहर में सन्नाटा हैसड़के सूनी पड़ी है
देखो कुदरत की इंसान पर कैसी मार पड़ी है

पत्नियाँ मौज ले रही हैपति रसोई में खड़े है
देखो कैसे बुरा बक्त आया है,बर्तन धोने पड़े है

मेट्रो बंद है,बसे बंद है,सब अपनी जगह खड़ी है
देखो यात्रियों परये कैसी अदुभुत मार पड़ी है

पूजा स्थल सारे बंद पड़े,भगवान अस्पतालों में खड़े है
भगवान भक्तो की पूजा कर रहे जो बिस्तरो पर पड़े है

स्कूल बंद है,कालिज बंद है,अध्ययन बंद पड़ा है
देखो भैया परीक्षा कैसे होगी,मन में द्वंद पड़ा है

उद्योग बंद है उत्पादन बंद है,सबको अपनी पड़ी है
देखो भैया,अब सारे विश्व में मंदी मुहं बाएँ खड़ी है

कवि-मंच बंद पड़े है , कवि ही अकेले मंच पर खड़े है
श्रोताओ का नामो निशान नहींतालियों के लाले पड़े है


आर के रस्तोगी
गुरुग्राम (हरियाणा)

Post a Comment

0 Comments

 विश्व के लिए खतरा है चीन