"रश्मिरथी " का रचयिता महाकवि दिनकर




दिनकर

प्रीति शर्मा "असीम "

साहित्य
जगत के "अनल" कवि का,
अधैर्य जब चक्रवात पाता है ।

तब "दिनकर "भी "दिनकर" से,
दीप्तिमान हो जाता है ।

"ओज" कवि "रश्मिरथी "पर,
जब-जब हुंकार लगाता है ।

"आत्मा की आंखें "
कैसे ना खुलेगी ।
पत्थर भी पानी हो जाता है।

साहित्य
जगत के "अनल "कवि का।

"भारतीय संस्कृति के चार अध्याय"
रच कर ,
भारत का विश्व में नाम किया।

"कुरुक्षेत्र "रच कर ,
आधुनिक गीता का निर्माण किया ।

"शुद्ध कविता की खोज" में निकला ।
"उजली आग का स्वाद" चखा।

रेणुका ,उर्वशी ,रसवंती ,
यशोधरा का द्वंद गीत लिखा ।

सपना देख के
"सूरज के विवाह" का ।
"हारे को हरी नाम "भज कर,
अंतिम इतिहास रचा ।

कैसे भूल सकता ।
साहित्य दिनकर को ,
उसने जो इतिहास रचा।

"अर्धनारीश्वर "की सार्थकता को,
साहित्य वन में छोड़ चला ।

साहित्य भूला नहीं सकता ।
ज्ञान ,
पदमभूषण ,
भूदेव के अधिकारी को ।

सिमरिया की माटी को ,
उस "दिनकर "
काव्य अवतारी को।


प्रीति शर्मा "असीम "
नालागढ़ हिमाचल प्रदेश

Post a Comment

0 Comments

कुछ तो हो