बचाना है जान को जहान को - आर के रस्तोगी



बचाना है जान को जहान को

आर के रस्तोगी


बचाना है जान को,जहान को ,
इस धरा के अब हर इंसान को ।।

यही ध्येय होगा अब हमारा ,
ये सन्देश पहुँचे हर इंसान को ।।

सबका साथ हो सबका विश्वास हो ,
आशा के साथ सबका विकास हो ।।

तब ही कोरोना को जीत पायेंगे ,
ऐसा जन-जन में विश्वाश हो ।।

लॉक डाउन ही एक आस है ,
बनी नहीं दवा कोई खास है ।।

घर में बैठे रहे हम सभी अभी ,
इसको जीतने की यही आस है ||

थोड़े दिनों की तो तकलीफ है ,
मिलेगा कुछ दिनों में रिलीफ है ।।

घबराने की कोई जरूरत नहीं ,
यही हमारा अब एक बिलीफ है ।।

यह है एक भयानक सक्रमण का रोग ,
इस पर चल नहीं सकता कोई अभियोग ।।

जो निकलेगा इस समय घर से बाहर ,
उस पर चलेगा कोर्ट में अभियोग ।।

गगन भी ध्वनी प्रदुषण से मुक्त है
जबसे वायुयान नहीं चल रहे है ।।

पृथ्वी भी प्रदुषण से अब मुक्त है ,
वाहन व् उद्योग पूरी तरह से बंद है ।।

घर से बाहर जब तुम निकलो ,
मुहँ को ढक कर तुम निकलो ।।

यही सुरक्षा कवच है तुम्हारा ,
इसे गांठ बाँध कर रख लो ।।

सोशल डिस्टेंस ही एकमात्र दवा है ,
बाकी तो अब सभी बेकार दवा है ।।

सोशल डिस्टेंस को तुम अपनाओ ,
कोरोना को अब दूर मार भगाओ ।।

यही प्रशासन विभाग का सन्देश ,
वर्ना होंगे तीसरी स्टेज में प्रवेश ।।

इस पर सभी को अम्ल करना है
मरघट की राह कदम न धरना है ।।

आर.के.रस्तोगी (गुरुग्राम)

Post a Comment

0 Comments

 विश्व के लिए खतरा है चीन