राज शर्मा की रचना - आन उबारो महावीर


आन उबारो महावीर

आन उबारो महावीर


राज शर्मा

प्रथम सुमिरौ श्री राम को,दूजे विराट हनुमान को।
संकट विकट प्रभु जानके, आन उबारो जगत को।।

इतिहास साक्षी मारुति का, सहज करें सब का।
आन उबारो महावीर अब, चहुं ओर यही आवाज़।।

जब सृष्टि में संकट आया, कहर बनी कोई मर्ज।
तब तब संकटमोचन आए, मन से करें जो अर्ज।।

आओ संकट मोचन प्रभु, नित ध्याऊँ तेरो नाम।
कोरोना इस कु विष पर , अब लगा दो विराम।।

प्रतिबंध लगाए हारे सब, विष रोक लो महावीर।
दुनिया सारी डोल गयी , हो गए सब जन अधीर।।

आस करें सब निज इष्ट से, हृदय लिए विश्वास।
अंकुश लगा दो विष पर, सब करें यही अरदास।।
राज शर्मा (संस्कृति संरक्षक)
आनी कुल्लू हिमाचल प्रदेश

Post a Comment

0 Comments

कुछ तो हो