-->

Header Ads Widget

करे सम्मान हम उन सबका,जो हमारी सेवा करते है।



आर के रस्तोगी

करे सम्मान हम उन सबका,जो हमारी सेवा करते है।

करे सम्मान हम उन सबका,जो हमारी सेवा करते है।
अपनी जान जोखिम में डालकर, कोरोना से लड़ते है॥|

रहकर घर में बन्द ही, कोरोना से हम लड़ सकते है।
अंत में हमारी विजय होगी,कोरोना को हरा सकते है॥

नहीं बनी कोई औषधि अभी,कोरोना के इलाज़ की।
घर से बाहर न निकलना, यही दवाई है इलाज़ की॥

किसी के कहे न दवा ले, न खुद करो अपना उपचार।
अपने डॉक्टर से सलाह लीजिये,यही अच्छा उपचार॥

कोरोना एक ऐसा रोग है,यह देखे न राजा रंक फकीर।
इसकी चपेट सब आ जात है,चाहे कितना हो बलबीर॥

भूखे को भोजन खिलाईये,यही है नौ देवियों का आदेश।
कोरोना जल्द ही मिट जाएगा,रहेगा न इसका अवशेष॥

साईं इतना दीजिये,जाय में कुटुम्ब समाय।
मै भी भूखा न रहूँ, साधू भी भूखा न जाय॥

नहीं कोरोना कभी देखता,अमीर गरीब और जात पात।
चपेट लेता है ये सबको,देखता नहीं किसी की औकात॥

चला युद्ध 18 दिन तक,महाभारत का कुरुक्षेत्र मैदान में।
कोरोना युद्ध 21 दिन में जीतिये अगर डटे रहे मैदान में॥

कोरोना कोरोना सब कह रहे , करुणा करे न कोय।
जो एक बार करुणा करे,फिर कोरोना काहे को होय॥


आर के रस्तोगी
गुरुग्राम

BERIKAN KOMENTAR ()
 
close