आर के रस्तोगी की रचना - मै एकान्त में हूँ,पर किसी के इन्तजार में हूँ।



आर के रस्तोगी

मै एकान्त में हूँ,पर किसी के इन्तजार में हूँ।
शांत हूँ,पर कल के कोलाहल के इन्तजार में हूँ॥

डरा नहीं हूँ, इस सन्नाटे को देखकर मै आज।
देख रहा हूँ,इसमें भारत के भविष्य का आज॥

भाग दौड़ के माहौल से अलग एकांत चाहता हूँ मै।
अपनी यादो को फिर से जीवन देना चाहता हूँ मै॥

चाहता हूँ उन सबको,जो इस एकान्त में मेरे से बिछड़ गये।
चाहता हूँ उन दोस्तों को,जो इस सफर में आगे निकल गये॥

चाहता हूँ उस प्रेमिका का स्पर्श,जो मेरे एकांत से ऊब गयी।
चाहता हूँ उन चरणों का स्पर्श,जो झुररियों में सिमट गयी॥

मोल भाव भी करना चाहता हूँ,उन फल सब्जी ठेले वालो से।
तू तू मै मै,करना चाहता हूँ,उन सभी बेचारे रिक्शा वालो से॥

इन्तजार उस घड़ी का,जब जोंन चर्च से निकल कर आयेगा।
मेरी टूटी फूटी मोटर सायकिल पर बैठ के घर अपने जायेगा॥

करता है मन मेरा आज मत्था टेकना शीशगंज गुरुद्वारे का।
जूते उतार कर,शीश पे पग पहनकर,पंगत में लंगर खाने का॥

याद आती है आबिद के घर जाकर बढ़िया बिरयानी खाने की।
याद आती है होली व ईद पर उन दोस्तों को गले से लगाने की॥

मै एकांतवास में हूँ केवल इसमें मेरा और मेरे देश का हित होगा।
बाहर निकल कर मै आऊँगा,जब मेरा देश कोरोना से मुक्त होगा॥

आर के रस्तोगी
गुरुग्राम

Post a Comment

0 Comments

विश्व होम्योपैथी दिवस : चिकित्सा की सबसे बेहतरीन एवं प्राचीन पद्धति