नवीन हलदूणवी की रचना - आया रोग करोना जी

आया  रोग  करोना  जी
आया  रोग  करोना  जी

 नवीन हलदूणवी


आया  रोग   करोना  जी,
किसने किसको ढोना जी?

दुनिया  सारी  बोल  रही,
होना  है  सो   होना  जी।

हमको भी यदि बचना है,
हाथ  पड़ेगा   धोना  जी।

घर  में  रहत  अकेले  जी,
और    कोई  टोना  जी।

जकड़ लिया है इसने तो,
भारत का हर कोना जी।

समझ 'नवीन' खुदाई को,
बोलो   पैरी - पोना   जी।


नवीन हलदूणवी
8219484701
काव्य - कुंज जसूर-176201,
जिला कांगड़ा ,हिमाचल प्रदेश।

Post a Comment

2 Comments

कुछ तो हो