Header Ads Widget

अपने जीने की शर्तें

  

अपने जीने की शर्तें


अगर तुम
 देखते हो उतना
 दिखाया जाए जितना
 तो नहीं देख पाओगे वह सब
 जो तुम्हें देखना चाहिए
 और अंधे हो जाओगे

अगर तुम
 पढ़ते हो उतना
 पढ़ाया जाए जितना
 तो नहीं जान पाओगे वह सब
 जो तुम्हें जानना चाहिए
और मूर्ख बन जाओगे

अगर तुम
 चलते हो उधर
चलाया जाए जिधर
 तो नहीं पहुंच पाओगे वहां
 जहां तुम्हें पहुंचना चाहिए
 और पंगु हो जाओगे

अगर तुम
 सोचते हो उतना
 कहा जाए जितना
 तो नहीं सोच पाओगे वह 
जो तुम्हें सोचना चाहिए
और विक्षिप्त हो जाओगे 


अगर तुम
बोलते हो उतना
जितनी हो इजाजत
 तो यकीन मानिए
 एक दिन गूंगे हो जाओगे

अगर तुम
 नहीं चाहते बनना
अंधा 
मूर्ख
पंगु
विक्षिप्त
गूंगा

तो फिर से तय करो
अपने जीने की शर्तें I


दुलीचंद कालीरमन


Post a Comment

0 Comments